मेरा आईपी एड्रेस क्या है – Mera IP Address Kya Hai in Hindi

By Sunil Paswan

5/5 - (1 vote)

आईपी एड्रेस इंटरनेट सपोर्ट करने वाले डिवाइस का अपना एड्रेस होता है जो इंटरनेट पर यूजर्स की पहचान करता है, लेकिन सवाल यह है कि क्या आप जानते हैं कि आपका आईपी एड्रेस क्या है? हम ज्यादातर समय अपने स्मार्टफोन या कंप्यूटर के जरिए इंटरनेट पर बिताते हैं लेकिन हमें अपने ही आईपी एड्रेस के बारे में जानकारी नहीं होती है।

आज हम आपको आईपी एड्रेस ढूंढना सिखाएंगे, और खासकर अगर आपका सवाल ये है कि “मेरा आईपी एड्रेस क्या है” तो इसमें आपको इससे जुड़ी पूरी जानकारी दी जाएगी।

मेरा आईपी एड्रेस क्या है कैसे पता करें

अगर आप अपने डिवाइस का आईपी एड्रेस जानना चाहते हैं, चाहे वह स्मार्टफोन हो या कंप्यूटर, तो इसके लिए आपको नीचे बताए गए तरीकों को अपनाना होगा जिसके जरिए आप आसानी से अपना आईपी एड्रेस जान सकते हैं।

Settings से पता करें

आप मोबाइल फोन की Settings से IP Address पता कर सकते हैं, पता करने के लिए मोबाइल Settings ओपन करे इसके बाद Sim Cards & Mobile के ऑप्शन पर क्लिक करें, उसके बाद एक Advanced Settings का विकल्प मिलेगा इस पर आपको क्लिक करना हैं। यहां आपको डिवाइस का IP Address दिख जाएगा।

Note : मोबाइल सेटिंग्स के जरिए आईपी एड्रेस ढूंढना एक बेहतर विकल्प हो सकता है, लेकिन आपको इस बात का खास तौर पर ध्यान रखना होगा कि सिम कार्ड एंड मोबाइल के अंदर जहां से आईपी एड्रेस दिखाया जाता है वहां एडवांस्ड सेटिंग्स का विकल्प पुराने वर्जन के फोन में नहीं दिया जाता है।

इंटरनेट से पता करें

आईपी एड्रेस जानने का इंटरनेट सबसे अच्छा तरीका हैं क्योंकि इंटरनेट के माध्यम से IP Address सिर्फ 10 सेकंड के अंदर पता किया जा सकता हैं।

गूगल या फिर कोई अन्य ब्राउ़जर ओप कीजिए, इसके बाद सर्च बॉक्स में What is my IP Address टाइप करके सर्च करें। आपके डिवाइस का जोभि आईपीए एड्रेस होगा वह दिखा दिया जाएगा।

Settings से पता करे कंप्यूटर/लैपटॉप का IP Address

कंप्यूटर या लैपटॉप के जरिए IP Address जानना चाहते है तो सबसे पहले Tacksbar ओपन करे, इसके बाद Wi-Fi पर क्लिक करे, अब Properties वाले ऑप्शन पर क्लिक कर देना हैं परंतु इसके लिए किसी Wi-Fi Network से आपके डिवाइस कनेक्ट होना चाहिए।

आप डायरेक्ट उस पेज पर पहुंच जाएंगे जहां पर आईपी एड्रेस दिखाया जाता है, इस पेज पर आप IPv4 address और IPv6 address की जानकारी देख सकते हैं।

आईपी एड्रेस जानने के लिए आपको पहले किसी वाई-फाई नेटवर्क से कनेक्ट करना होगा, इसके बाद ही आप कनेक्टेड इंटरनेट के माध्यम से जान सकते हैं।

Google द्वारा जाने IP Address

गूगल के जरिए आप कंप्यूटर का आईपी एड्रेस जान सकते है, बस आपको गूगल पर जाना है और व्हाट इज माय आईपी लिख कर सर्च कर देना है, गूगल रिजल्ट पेज पर आपके आईपी एड्रेस जो भी होगा वहा दिख जाएंगे।

यह भी पढ़े :

CMD से जाने कंप्यूटर में IP Address

यदि आप कंप्यूटर में Windows System के जरिए आईपी जानना चाहते है तो इस प्रकार जान सकते हैं:

  1. सबसे पहले आपको अपने कंप्यूटर में Window Key + R को दबाना हैं।
  2. इसके बाद विंडो पॉपउप ओपन हो जाएगा,
  3. इसमें आपको CMD लिखकर Ok या फिर Enter बटन क्लिक करना हैं।
  4. आपके सामने Command Prompt ओपन हो जाएगा।
  5. उसमें आपको ipconfig टाइप करके Enter कर देना हैं।
  6. इतना करते ही आपके सामने IPv4 और IPv6 दिखा जाएगा,
  7. जो आपका आईपी एड्रेस हैं।
main
मेरा आईपी एड्रेस क्या है

क्या है IP Address

हालाँकि आईपी एड्रेस से जुड़ी कई जानकारी हम पहले ही दे चुके हैं लेकिन हमने अभी तक यह नहीं बताया है कि आईपी एड्रेस क्या होता है तो आइए इसके बारे में भी जानकारी ले लेते हैं।

आईपी एड्रेस को लॉजिकल एड्रेस भी कहते हैं, दरअसल IP address का फुल फॉर्म Internet protocol address होता है जो इंटरनेट पर यूजर्स की एक पहचान होती हैं। जिस प्रकार एक ऑफिस अथवा घर की एड्रेस होती है उसी प्रकार प्रतेक इंटरनेट समर्थन करने वाली डिवाइस का अपना एक अलग एड्रेस होता है जिसके जरिए हम उस डिवाइस तक पहुंच सकते हैं।

कितने प्रकार के IP Address होते है

मुख्य रूप से दो प्रकार के IP एड्रसे के Version होते है पहला IPv4 और दूसरा IPv6

  • IPv4: इस वर्जन को Internet protocol version 4 कहा जाता है जिसमें कुल 32 bits तथा 4 octet होती हैं जबकि इसमें 4 बिलियन IP address जनरेट किया जा सकता है जैसे 192.168.11.02
    इसमें भी कुल 5 classes है
    1. Class A – 0 से 126
    2. Class B – 128 से 191
    3. Class C – 192 से 223
    4. Class D – 224 से 239 used for multicasting
    5. Class E – 240 से 255 used for research
  • IPv6: इस वाले Version को Internet protocol version 6 कहा जाता है जो एक अपग्रेड वर्जन है, इसमें 128 bits तथा 8 octet है और रेंज 0 to 65535 होती हैं परंतु IPv4 में 0 to 255 तक की ही रेंज होती हैं। इस एडवांस वर्जन में 340 ट्रिलियन तक IP address जनरेट किया जा सकता है, जैसे 0000:0000:0000:00df:0000:0000:000:d00b

दूसरे का IP Address कैसे पता करें

किसी दूसरे डिवाइस का IP एड्रेस पता करना काफी आसान हैं आप Easily किसी दूसरे व्यक्ति के डिवाइस का आईपी पता सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप व्हाट्सएप पर किसी से चैट कर रहे है या फिर अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर चैट कर रहे है और आप उसका आईपी एड्रेस जानना चाहते है तो यह आसानी के कर सकते हैं।

Step 1:
गूगल पर जाए और iplogger.org सर्च करें, और उस वेबसाइट पर क्लिक करके उसके हॉम पेज पर जाए।
Step 2:
आपको एक बॉक्स दिख जाएगा, उस बॉक्स में किसी भी वेबसाइट का URL को Paste करदें, उदाहरण के लिए https//www.google.com
Step: 3
अब Create a shortlink पर क्लिक करना है और Create किए गए लिंक को Copy करके, आप उस व्यक्ति को लिंक Share करें जिसका IP जानना चाहते है।
Step: 4
तब तक प्रतीक्षा करें जब तक वह व्यक्ति आपके द्वारा साझा किए गए लिंक पर क्लिक न कर दे।
Step: 5
जैसे हि वह क्लिक करता है, आपको iplogger वेबसाइट पर जाना है और थोड़ा निचे scroll करना है, यहां आपको उसके IP के साथ साथ अन्य जानकारी भी मिल जाएगा।

यह एक आसान तरीका है जिसके जरिए आप किसी दूसरे यूजर का आईपी एड्रेस पता कर सकते हैं, लेकिन लिंक बनाते समय आपको इस बात का खास ध्यान रखना होगा कि ऐसे लिंक का इस्तेमाल करें ताकि जब आप उस लिंक को किसी के साथ शेयर करें तो वह लिंक पर क्लिक करने के लिए आकर्षित हो।

क्यों IP Address इस्तेमाल किया जाता है?

इंटरनेट लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि इंटरनेट के माध्यम से ही किसी चीज़ के बारे में जानना हो अथवा सिखना हो तो इंटरनेट द्वारा आसानी से किया जा सकता हैं परंतु बहुत सारे लोग इंटरनेट का गलत इस्तेमाल कर सकते हैं,

इसलिए जो भी यूजर्स इंटरनेट का इस्तेमाल करना चाहता है उसके लिए उन्हें एक IP ऐड्रेस के रूप में पहचान दिया जाता हैं, ताकि उसकी पहचान इंटरनेट में हो सके और वह इंटरनेट का किसी प्रकार से गलत इस्तेमाल ना कर सके।

जब किसी दूसरे का आईपी एड्रेस अन्य व्यक्ति को पता चल जाता है तो उससे उसका Location आसानी से Track किया जा सकता हैं।

हमने दूसरे डिवाइस का आईपी एड्रेस जानने के बारे में जो तरीका बताया है, उसके जरिए आप अपने दोस्तों, परिवार और अन्य लोगों की लोकेशन भी ट्रैक कर सकते हैं।

IP Address शेयर करने से नुकसान

  • Cyber ​​Attacks: किसी को IP address शेयर करने से वह आपके डिवाइस पर Attacks कर सकता हैं।
  • Privacy violation: आईपी द्वारा किसी व्यक्ति को ऑनलाइन ट्रैक या उस व्यक्ति की पहचान करने के लिए किया जा सकता है, साथ ही आपके स्थान और इंटरनेट सेवा प्रदाता की जानकारी भी प्राप्त किया जा सकता हैं।
  • Illegal Activity: इसका उपयोग Illegal activity के लिए भी किया जा सकता है जैसे साइबर अपराध, धोखाधड़ी इत्यादि।

Disclaimer : हमने जो ऊपर दूसरे का आईपी एड्रेस पता करने का तरीका बताया है उसका उपयोग आप किसी व्यक्ति की पहचान करने के लिए ना करें, बल्कि IP address का उपयोग केवल लीगल उद्देश्यों के लिए ही करें।

उमीद है कि आपको यह लेख पसंद आया होगा, यदि आपको इससे कुछ नया सीखने को मिला हो तो अपने दोस्तों के साथ पोस्ट करूर शेयर करें।

यदि आप अपने IP address को छुपाना चाहते है तो इसके लिए VPN का उपयोग कर सकते हैं, इसके जरिए आप खुद की आईपी एड्रेस छुपा सकते हैं।

लेख अपने दोस्तों के साथ जरूर Share करें

नमस्ते, मेरा नाम सुनील पासवान हैं और मैं फुल टाइम ब्लॉगिंग करता हूँ। मुझे अलग-अलग विषयों पर लेख लिखना पसंद है। हिंदी बंधन के माध्यम से आप सभी तक बेहतर जानकारी पहुंचाने को मैंने अपना जुनून बना लिया है! आशा करता हूँ आप अपना प्यार बनाये रखेंगे।

Leave a Comment