सभी ग्रहों के नाम हिंदी व अंग्रेजी में | Planets Name In Hindi and English

5/5 - (1 vote)

पहले सौर मंडल में कुल 9 ग्रह हुआ करते थे, परंतु सौरमंडल से नौवां गृह प्लोट को इस सूची से निकाल दिया गया हैं अब केवल 8 ग्रह ही मौजूद हैं। आगे बढने से पहले आपको बता दें कि आज का आर्टिकल किस बारे में होने वाला है। आज के इस लेख में हम जानने वाले है Planets Name in Hindi and English और ये भी जानने वाले हैं What is Solar System in Hindi इतना ही नही आपको सौरमंडल व ग्रह के बारे में पूरी जानकारी प्रदान करेंगे, जो भी आपका सौर मंडल और ग्रह से संबंधित सवाल होगा उसका उत्तर इसमें जरूर मिल जाएगा।

ब्रह्मांड अनंत है, इसका कोई अंत नहीं है, ब्रह्मांड में कितनी आकाशगंगाएं और कितने सौरमंडल हैं यह कोई नहीं जानता, लेकिन जिस सौर मंडल और ग्रह में हम रहते हैं, उसके बारे में जानना हमारा कर्तव्य है, इसलिए मैंने उस सौरमंडल के बारे में विस्तार से बताया है, जिसमें हम रहते हैं।

सूर्य के सबसे निकट चार ग्रह बुध, शुक्र, पृथ्वी और मंगल हैं। इन ग्रहों को पार्थिव ग्रह भी कहा जाता है, क्योंकि ये ग्रह मुख्य रूप से धातुओं और चट्टानों से बने हैं। प्लूटो भी हमारे सौरमंडल का एक हिस्सा था, लेकिन उस ग्रह को वर्गीकृत किया गया है, क्योंकि यह ग्रह अपनी विशेषताओं में बाकी ग्रहों से काफी अलग है। वर्तमान में सौर मंडल में आठ ग्रह हैं जो सूर्य की परिक्रमा करते हैं। सौर मंडल में मौजूद सभी ग्रह अद्वितीय हैं जिनकी अपनी विशेषताओं और सुविधाएं सेट है। सौरमंडल में मौजूद ग्रहों की संख्या के बारे में कई रहस्य हैं, जिनका पता लगाने के लिए वैज्ञानिक काम कर रहे हैं।

Table of Content [ Show ]

Planets Name in Hindi and English – सभी ग्रहों के नाम हिंदी और इंग्लिश में

क्रमिक संख्याPlanet Hindi NamePlanet English Name
1बुध (Budh)मर्करी (Mercury)
2शुक्र (Shukra)वेनस (Venus)
3पृथ्वी (Prithvi)अर्थ (Earth)
4मंगल (Mangal)मार्स (Mars)
5बृहस्पति (Brahspati)जुपिटर (Jupiter)
6शनि (Shani)सैटर्न (Saturn)
7अरुण (Arun)युरेनस (Uranus)
8वरुण (Varun)नेप्‍च्‍यून (Neptune)

हमारे सौरमंडल के सभी ग्रहों के नाम ऊपर की तालिका में हिंदी और अंग्रेजी में दिए गए हैं, मुझे उम्मीद है कि अब आप समझ गए होंगे कि सौरमंडल में कितने ग्रह मौजूद हैं। हमने निम्नलिखित आठ ग्रहों के बारे में विस्तार से बताया है, जो सभी पृथ्वीवासियों को सौर मंडल और ग्रहों के बारे में विस्तार से जानने के लिए आवश्यक है, इसके अलावा, हमने सौर मंडल और ग्रहों से संबंधित अन्य जानकारी भी प्रदान की है, जो स्टूडेंट भूगोल अध्ययन करते हैं उसके लिए यह लेख मददगार साबित होगा।

सौरमंडल क्या है? जानिए

सूर्य के चारों ओर घूमने वाले विभिन्न ग्रहों के समूह को सौर मंडल कहा जाता है, सूर्य के चारों ओर घूमने वाले सभी ग्रह सूर्य और खगोलीय पिंड से बने होते हैं, इसका अर्थ यह है कि खुद ही बन गई हो, कहने का मतलब यह है कि ऐसी वस्तु जिसे मनुष्य द्वारा रचना ना की गई हो, जो प्राकृत रूप से पाई जाती है जैसे तारे, गैलेक्सी, ग्रह, ब्लैक होल, आकाश गंगा, उल्का पिंडा, उपग्रह तारे इत्यादि, इन्ही खगोलीय पिंड की सहायता से ग्रह का निर्माण हुआ हैं। इस तरह के ऐसी कई चीजें इस ब्रह्माण्ड में है जिसे किसी के द्वार बनाया नही गया हैं बल्कि पहले से ही ब्रह्माण्ड में इधर से उधर परिक्रमा करती रहती हैं और ब्रह्माण्ड में कई रहस्या भी छुपी हुई हैं।

सूर्य उस सौर मंडल का सबसे बड़ा ग्रह है जिसमें हम रहते हैं। सभी ग्रह सूर्य की परिक्रमा करते हैं, लेकिन जो ग्रह सूर्य के सबसे निकट होता है, वह सूर्य की परिक्रमा कम समय में करता है, वही ग्रह जो सूर्य से बहुत दूर होता है, उसे सूर्य की परिक्रमा करने में अधिक समय लगता है, जो तारा सूर्य से जितना दूर होगा, उसे सूर्य की परिक्रमा करने में उतना ही अधिक समय लगेगा।

सौर मंडल को दो भागों में बांटा गया है, आंतरिक सौर मंडल और बाहरी सौर मंडल। आंतरिक सौर मंडल में मुख्य रूप से बुध, शुक्र, पृथ्वी और मंगल शामिल हैं। इसमें शामिल तारे चट्टान और धातु से बने हैं, और बाहरी सौर मंडल का दूसरा आधा हिस्सा, जिसमें बृहस्पति, शनि, यूरेनस और नेपच्यून शामिल हैं, वह ठोस सतह के बिना तारे हैं। सूर्य सौर मंडल का सबसे विशाल ग्रह होने के कारण, इसमें हमारे सौर मंडल के द्रव्यमान का लगभग 99% हिस्सा है और यह मिल्की वे के केंद्र से 26,000 प्रकाश वर्ष दूर है।

क्या है? ग्रह

सामान्यतः किसी तारे की परिक्रमा करने वाला तारा ग्रह कहलाता है, जैसा कि आपको बताया गया है कि सूर्य एक तारा है जिसके चारों ओर कुछ तारे चक्कर लगाते हैं वही तारा जो सूर्य की परिक्रमा करता है उसे ग्रह के नाम से जाना जाता है। सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाने वाले खगोलीय पिंड हैं और खगोलीय पिंड को ही ग्रह के रूप में जाना जाता हैं और वे गुरुत्वाकर्षण के कारण एक निश्चित दूरी तय करने के बाद घूमते हैं।

गुरुत्वाकर्षण बल के कारण तारे एक दूसरे की ओर आकर्षित होते हैं, इसके साथ ही यह ब्रह्मांड की कई गैसों को एक स्थान पर रखता है और इसी के कारण मिल्की वे का निर्माण भी होता है। गुरुत्वाकर्षण बल की सहायता से एक द्रव्यमान दूसरे द्रव्यमान को अपनी ओर खींचता है। इसके अंतर्गत उपग्रह, ग्रह, आकाशगंगाएँ, वस्तुएँ आदि आते हैं।

अगर आपके मन में यह सवाल है कि तारों और ग्रहों में क्या अंतर है तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि रात के समय जब आकाश में चमकते पिंड, जो पूर्व से उठते हैं और पश्चिम में अस्त होते हैं, तारे या उन्हें तारा कहा जाता है। वही कुछ पिंड जो कभी आगे और कभी पीछे की ओर बढ़ते हैं ग्रह कहलाते हैं और ऐसे पिंडों को घुमंतू ग्रह भी कहा जाता है।

क्या है प्लूटो ग्रह

सौर मंडल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रह बोना है, जो कुइपर बेल्ट में स्थित है। कुइपर बेल्ट हमारे सौर मंडल के बाहरी क्षेत्र में स्थित है। प्लूटो को पहले 9वें ग्रह की सूची में रखा गया था। प्लूटो की खोज 18 फरवरी, 1930 को अमेरिकी खगोलशास्त्री Clyde Tombaugh ने की थी। जिस समय इस ग्रह की खोज की गई थी उस समय इस ग्रह को एक नया ग्रह माना गया था, लेकिन 24 अगस्त 2006 को इस ग्रह को ग्रहों की सूची से हटा दिया गया था।

एक बौना ग्रह होने के साथ यह लगभग 2,377 किलोमीटर व्यास हैं, यह ग्रह चंद्रमा के आकार का दो-तिहाई का एक छोटा ग्रह हैं, इसकी कक्षा सूर्य के चारों ओर काफी अधिक और अन्य ग्रहों की मुकाबला यह अत्यधिक लंबा ग्रह हैं जो हमारे सौर मंडल में बेढ़ंग तरीके के चक्कर लगाते हैं औऱ कभी कभाड़ यह ग्रह सूर्य के बहुत करीब चला जाता है तो कभी सूर्य से बहुत दूर वरूण ग्रह के पास आ जाता हैं। प्लूटो को सूर्य के पूरी चक्कर लगाने में 248 साल का वक्त लग जाता हैं, वही पृथ्वी सूर्य का एक परिक्रमा करने में एक साल का ही समय लगाता हैं।

प्लूटो ज्यादातर बर्फ और चट्टान से बना है, जिसका रंग अंतरिक्ष शोधकर्ता द्वारा उत्तरी ध्रुव का रंग थोड़ा चमकीला और दक्षिणी ध्रुव का रंग पहले की तुलना में थोड़ा गाढ़ा है, वैज्ञानिकों का मानना है कि प्लूटो पर बदलते मौसम ग्रह की पहचान है। जुलाई 2015 में नासा द्वारा प्लोट की उड़ान भरी और बौना ग्रह और उसके चंद्रमाओं की पहली क्लोज-अप छवियां प्रदान की गईं।

सौर मंडल के सभी ग्रह और चित्र

सौर मंडल में 8 ग्रह हैं, हालाँकि प्लूटो नाम का एक और ग्रह है, लेकिन अब इसे सौर मंडल के सभी ग्रहों की गिनती से हटा दिया गया है। अब समय आ गया है कि आप इन 8 ग्रहों के बारे में विस्तार से जान लें, नीचे हम सौर मंडल के सभी ग्रहों के बारे में रोचक जानकारी जानने जा रहे हैं, इसके अलावा आपको इन ग्रहों के बारे में खास रहस्य भी बताएंगे, जिसके बारे में हर इंसान को जरूर जानना चाहिए।

1. Mercury (बुध)

Mercury Planets

बुध, जिसे अंग्रेजी में Mercury (मरकरी) भी कहा जाता है, 8 ग्रहों में सबसे छोटा और सूर्य के सबसे निकट का ग्रह है। इस ग्रह पर तापमान में अन्य ग्रहों की तुलना में बहुत अधिक उतार-चढ़ाव होता है, जो दिन के दौरान 427 °C, 800 °F और रात में लगभग 173 °C तक चला जाता है; -280 °F तक, निम्न का बढ़ना जारी रहता है। बुध ग्रह के बारे में अन्य जानकारी नीचे दी गई है-

  • यह सबसे छोटा और सरज के सबसे निकट ग्रह हैं।
  • हमारे पृथ्वी के तरह ही बुध ग्रह भी जो एक चट्टान पिंड हैं और यह सौरमंडल के चार स्थलीय ग्रहों में भी शामिल हैं।
  • पृथ्वी या अन्य ग्रहों के जैसा बुध ग्रह पर मौसम कि बलाव नही होता हैं।
  • 70% धातु व 30% सिलिकेट पदार्थ से मिलकर बना हैं, जो ब्रह्माण्ड के टाइटन से छोटा और बड़े उपग्रहों में से एक है जो वजन में भारी हैं।
  • बुध ग्रह मध्यरात्रि को नही दिखाई देती हैं यह पृथ्वी के जैसा ही आसमान में सुबह व शाम को देखने को मिलती हैं।
  • 46,000,000 से लेकर 70,000,000 किमी सूर्य से बुध की दूरी बताया जाता हैं और क्या आपको पता हैं इस ग्रह को सूर्य को एक बार पूरा परिक्रमा करने में केवल 88 दिन ही लगता हैं।
  • इस ग्रह की सतह पर पत्त्थर और कंक्रीट बहुत अधिक हैं परंतु सल्फर और क्लोरीन भी इस सतह पर देखने को मिलती हैं, दरअसल बुध की सतह चन्द्रमा के जैसी हैं जो भूरे रंग तथा Grey रंग देखने मे लगते हैं।
  • बुध ग्रह को यदि पृथ्वी से देखा जाए तो यह एक तारे के समान प्रतीत होता है।

2. Venus (शुक्र)

Venus Planet

वीनस को अंग्रेजी में Venus (वीनस) कहते हैं, यह ग्रह सौर मंडल में सूर्य का दूसरा निकटतम ग्रह है और सौर मंडल के सबसे गर्म ग्रहों में से एक है। सूर्य से इसकी दूरी की बात करें तो सूर्य से इसकी कुल दूरी लगभग 6.72 मिलियन मील है और यह ग्रह 225 दिनों और कुछ घंटों में सूर्य के चारों ओर अपनी परिक्रमा पूरी करता है। इसके अलावा शुक्र ग्रह के बारे में और जानकारी हमने नीचे दी है-

  • Venus दूसरा सरज के निकट ग्रह हैं।
  • वायुमंडल पृथ्वी की सतह के तुलना में शुक्र ग्रह लगभग 92 गुणा अधिक हैं।
  • शुक्र ग्रह हमारी पृथ्वी के सबसे निकट है।
  • इस के तापमान लगभग 462°C होने साथ, यह सौरमंडल का सबसे अधिक गर्म ग्रह हैं।
  • इस ग्रह की पृथ्वी से दूरी 26 मिलियन है, जबकि यह सूर्य से 672 मिलियन मील दूरी पर स्थित है।
  • शुक्र सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद अधिक चमकीला होता है, इसलिए कुछ प्राचीन संस्कृतियों में सुबह और शाम के रूप में भी माना जाता हैं।
  • यह एक स्थलीय ग्रह है जिसका आकार, गुरुत्वाकर्षण और बनावट है और इसके बारे में एक मजेदार तथ्य बताना चाहेंगे कि इस बनावट के कारण इस ग्रह को पृथ्वी की बहन भी कहा जाता है।
  • शुक्र ग्रह की सतह सूखे शिलाखंड बिखरे हैं जिसके कारण इसे सूखा मरूस्थल के रूप में भी जाना जाता हैं और समय समय पर ज्वालामुखी के माध्यम से यह ताजा होता रहता हैं।
  • चंद्रमा के बाद यह सबसे ज्यादा चमकीला ग्रह भी हैं।
  • दोस्तो शुक्र ग्रह का नाम प्रेम एवं सौन्दर्य की रोमन देवी के नाम पर ही रखे गये थे जिसे आज भी उसी नाम से जानी जाती हैं।
  • इस ग्रह पर काफी मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड पाई जाती है और यह सल्फ्यूरिक एसिड युक्त बादलों की एक पारदर्शी परत से ढका हुआ है, जिससे अंतरिक्ष की किरणें इस ग्रह तक नहीं पहुंच पाती हैं।

3. Earth (पृथ्वी)

Earth Planet

पृथ्वी के बारे में हम सभी को पता होना चाहिए जिसे अंग्रेजी में Earth के नाम से जाना जाता है। यह सूर्य से दूरी के मामले में तीसरे स्थान पर आता है। ऐसा माना जाता है कि अनंत ब्रह्मांड में केवल पृथ्वी पर ही जीवन संभव है, इसके साथ ही पृथ्वी की आयु लगभग 4.543 अरब वर्ष है। पृथ्वी को सूर्य के चारों ओर एक चक्कर लगाने में पूरा एक साल यानी 365 दिन लगते हैं और सूर्य से इसकी दूरी लगभग 15 करोड़ किलोमीटर है।

  • पृथ्वी को Earth, धरती और विश्व कहते हैं इसके अतिरिक्त धरती को नील ग्रह भी कहते हैं और यह सूर्य से तसरा स्थान की दूरी पर हैं।
  • धरती का एक उपग्रह भी हैं जिसे चन्द्रमा कहते हैं।
  • सौर मंडल का सबसे बड़ा चट्टान ग्रह पृथ्वी हैं जो सूर्य से 15 करोड़ किलोमीटर की दुरी पर हैं।
  • 71% भाग जल और 29% भाग भूमि पृथ्वी पर मौजूद हैं। पृथ्वी कई तरह के प्लेटो से बनी है और यह बर्फ की एक मोटी परत से दोनों ध्रुवों जमी हुई हैं।
  • ऐसा माना जाता है कि हमारी प्यारी पृथ्वी की उत्पत्ति लगभग 4.54 अरब वर्ष पहले हुई थी, लेकिन जीवों का विकास महासागरों द्वारा हुआ और उसके बाद पृथ्वी का वातावरण प्रभावित होने लगा, इस अनुमान के अनुसार पृथ्वी पर जीवन 4.1 अरब वर्ष पहले प्रकट हुआ।
  • पृथ्वी ऐसा ग्रह है जिस पर बेहतर जलवायु, समय समय पर बहलता हुआ मौसम और सूर्य से उच्चतम की दुरी हैं इन्ह सबसे कारण पृथ्वी पर जीवन संभव हो पाया हैं।
  • पृथ्वी की ऊपरी सतह बहुत कठोर है, जो मिट्टी और पत्थरों से बनी है। पृथ्वी की सतह पर समुद्र, नदियाँ, विशाल पर्वत और पठार आदि अनेक सुन्दर प्राकृतिक संरचनाएँ दिखाई देती हैं।
  • सौर मंडल में पृथ्वी ही एक एक ग्रह है जिस पर जीवन हैं।
  • पानी पृथ्वी पर आसमान से जल वाष्प एवं बादल, समुंद्री जल और पहाड़ो अथवा नदियों के द्वारा यहां पानी हैं।
  • उल्कापिंड पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश करने के बाद घर्षण के कारण वायुमंडल में ही छोटे आकार में बिखर जाता है, जिससे यह आकाश में गायब हो जाता है। दोस्तों आपने देखा या सुना होगा कि आसमान से गिरता कोई तारा नीचे आता है, लेकिन आसमान के बीच में गायब हो जाता है, ऐसा इसलिए होता है।
  • सूर्य का प्रकाश पृथ्वी तक पहुचने में 8.3 मिनट लगता हैं।

4. Mars (मंगल)

Mars Planet

Mars ग्रह को मंगल ग्रह भी कहा जाता है, यह ग्रह सूर्य से चौथा स्थान है, जो सौरमंडल का दूसरा सबसे छोटा ग्रह है। मंगल को “लाल ग्रह” (Red Planet) भी कहा जाता है क्योंकि इसकी सतह लोहे की जंग जैसी दिखती है। मंगल के पास एक नहीं बल्कि दो उपग्रह हैं जिन्हें Deimos और Phobos के नाम से जाना जाता है।

  • मंगल ग्रह को सूर्य का एक चक्कर काटने में 687 दिंनो का समय लगता हैं।
  • Mars सूर्य से 14.2 करोड़ मील दुर हैं।
  • सौर मंडल में दो तरह के ग्रह होते हैं। गैसीय ग्रह और स्थलीय ग्रह जो की Vartual होते हैं और पृथ्वी भी एक स्थलीय ग्रह हैं।
  • कुछ वैज्ञानिकों का यह मानना है कि mars पर भूतकाल या वर्तमान में जीवन हो सकता हैं।
  • मेनिनर 4 ने सन 1965 में प्रथम मंगल उड़ान से पहले तक यह माना जाता था कि इस ग्रह की सतह में जल हो सकता हैं।
  • सौर मंडल का सबसे ऊंचे पर्वत इस ग्रह पर ही हैं।
  • मंगल ग्रह को पृथ्वी से देख जा सकता हैं। यह ग्रह बाकि ग्रहों को पृथ्वी से देखने पर काफी साफ और चमकिले दिखते हैं।
  • मंगल ग्रह पर 24 घंटे 37 मिनट का एक दिन होता हैं।

5. Jupiter (बृहस्पति)

Jupiter Planet

बृहस्पति ग्रह को अंग्रजी में Jupiter के नाम से जाना जाता हैं यह कहा जाता है कि बृहस्पति सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह है जो सूर्य से दूरी की संख्या में 5 वें स्थान हैं। बृहस्पति ग्रह में कुल 79 उपग्रह हैं जिसमे Ganymede सबसे बड़ा उपग्रह हैं।

  • रोमन सभ्यता के देवता जुपिटर के नाम पर बृहस्पति ग्रह का नाम रखा गया हैं।
  • बृहस्पति को सूर्य के परिक्रमा करने में लगभग 11.86 वर्ष जितना समय लगता हैं।
  • बृहस्पति ग्रह सूर्य से 77 करोड़ 80 लाख किलोमीटर की दुरी पर हैं।
  • जुपिटर सौर मंडल का सबसे अधिक बड़ा ग्रहों में से एक हैं।
  • बृहस्पति ग्रह भी एक गैसीय पिंड हैं।
  • पृथ्वी से रात के समय बृहस्पति ग्रह को स्पष्ट रूप से देखा जा सकता हैं।
  • शुक्र और चन्द्रमा के बाद आसमा में चमकने वाला ग्रह हैं।
  • गुरुत्वाकर्षण बल अन्य ग्रहों के अपेक्षा पृथ्वी से करीब 318 गुना अधिक हैं और 11 गुना पृथ्वी से इसका आकार हैं।

6. Saturn (शनि)

Saturn Planet

शनि ग्रह को Saturn के नाम से भी पहचाना जाता हैं यह ग्रह सूर्य से छठी दूरी पर है, सूर्य से दूरी की दृष्टि से यह 1.4 अरब किलोमीटर से अधिक की दूरी पर है। इस ग्रह के चारों ओर कई वलय हैं।

  • शनि ग्रह को सूर्य का परिक्रमा करने में 30 साल लग जाता हैं जो दिन के हिसाब से 10,759 दिन होते हैं।
  • सौर मंडल में बृहस्पति के बाद यह दुसरा सबसे बड़ा ग्रह हैं।
  • यह ग्रह एक गैसीय ग्रह है जिसका अंदरूनी भाग लोहा, हाइड्रोज़ोन, सिलिकॉन, मोटी चट्टान और ऑक्ससीजन से मिलकर बना हुआ हैं। वही बाहरी परत हीलियम और हाइड्रोजन से बना हुआ हैं।
  • इस ग्रह का वायुमंडल हमेशा हल्का पीला होता है इसका कारण यह है इस ग्रह के ऊपरी वायुमंडल में अमोनिया क्रिस्टल होता हैं।
  • इस ग्रह का सबसे अधिक बड़ा उपग्रह टाइटन हैं।
  • शनि ग्रह को पृथ्वी से नंगी आंखों से देखा जा सकता है।

7. Uranus (अरूण)

Uranus Planet

अरुण ग्रह को Uranus (यूरेनस) के नाम से भी जाना जाता है इसके अलावा इसे लेटा ग्रह भी कहा जाता है। सूर्य से दूरी के मामले में यह 7वें नंबर पर है, साथ ही 2.871 अरब किमी की दूरी पर भी है। कहा जाता है कि इस ग्रह का आकार पृथ्वी से 63 गुना बड़ा है।

  • अरूण ग्रह को सूर्य का चक्कर काटने में 84 वर्ष का समय लग जाता हैं।
  • अरुण ग्रह सौरमंडल का तीसरा सबसे अधिक बड़ा ग्रह हैं।
  • इस ग्रह की खोज 13 मार्च, 1781 को विलियम हर्शल ने की थी, जो दूरबीन द्वारा इस ग्रह की पहली खोज थी।
  • इस ग्रह के 27 उपग्रह हैं जो पृथ्वी के विपरीत दिशा में परिक्रमा करते हैं।
  • खगोलीय विद्वानों ने अरूण ग्रह को बर्फ़ीले गैस दानव की लिस्ट शामिल कर दिया, क्योंकि इस ग्रह पर अमोनियॉ और मीथेने गैसों के रूप में जमी हुई बर्फ हैं।
  • सौरमंडल का सबसे अधिक ठंडा ग्रह अरूण ग्रह हैं।
  • इस ग्रह का न्यूनतम तापमान -224° Centigrade तक मापा जा चूका हैं।
  • यूरेनस ग्रह का रंग हल्का हरा दिखता हैं।

8. Neptune ( वरूण)

Neptune Planet

सौरमंडल के ग्रहों में नेप्च्यून ग्रह है, जो सूर्य से आठवीं दूरी पर स्थित है, इस ग्रह को नेपच्यून और Neptune planet भी कहा जाता है। यह ग्रह सूर्य से 4.495 अरब KM की दूरी पर मौजूद है और इसे सूर्य की परिक्रमा करने में लगभग 164.79 वर्ष लगते हैं।

  • कुल 13 उपग्रह है वरूण ग्रह के।
  • धरती के अपेक्षा वरूण ग्रह सूरज से 30 गुना से अधिक की दूरी पर हैं।
  • 23 सितम्बर 184 में वरूण ग्रह को दूरबीन से देखा गया और इस ग्रह का नाम Neptune रखा गया था।
  • सौर मंडल का यह एक ऐसा ग्रह है जिसकी भविष्यवाणी इसे बिना देखे ही गणित के आधार पर किया गया था।
  • हमारे सौर मंडल का वरूण चौथें सबसे अधिक बड़ा ग्रह हैं।
  • नेपच्यून ग्रह पर ऋतु परिवर्तन को साफ देखा जा सकता है क्योंकि अन्य ग्रहों की तुलना में इस ग्रह पर हवाएँ अधिक तीव्र होती हैं।
  • इस ग्रह की सतह मिट्टी और पत्थर की नहीं बल्कि गैंसो की बनी है जो बहुत विशाल है।

जानिए अंतरिक्ष के बारे में कुछ रोचक तथ्य

Space Facts पर वीडियो देखें

Planets Name से जुड़े कुछ प्रश्न और उत्तर

8 ग्रहों के क्या नाम है?

बुध, शुक्र, पृथ्वी, मंगल, बृहस्पति, शनि, अरूण और वरूण

सौर मंडल में कौन ग्रह सूर्य के सबसे पास ग्रह है?

बुध (Merury) ग्रह सूर्य के सबसे पास ग्रह हैं।

सभी ग्रहों की दूरी कितनी है पृथ्वी से?

बुध – 189.56 मिलियन किलोमीटर, शुक्र – 203.61 मिलियन किलोमीटर, मंगल – 380.26 मिलियन किलोमीटर, बृहस्पति ग्रह – 615.94 मिलियन किलोमीटर, शनि – 1.3358 बिलियन किलोमीटर, यूरेनस – 2.9823 बिलियन किलोमीटर, व नेप्च्यून – 4.3779 बिलियन किलोमीटर की दूरी पर हैं।

कुल कितने ग्रह सौर मंडल में है?

पहले 9 ग्रह थे, लेकिन अब 8 ग्रह मौजूद हैं।

सौर मंडल का कौन सा उपग्रह सबसे बड़ा उपग्रह है?

बृहस्पति ग्रह का उपग्रह सौरमंडल का सबसे बड़ा उपग्रह हैं।

कुल कितने ग्रह है पूरे ब्रह्मांड में ?

50,000,000,000,000,000,000 ग्रह लगभग पूरे ब्रह्मांड में रहने योग्य हो सकता हैं।

पृथ्वी की बहन कौन सी ग्रह है?

पृथ्वी की बहन शुक्र ग्रह को कहा जाता हैं।

Conclusion

जैसा की हमने लेख के शुरूआत में ही बताया था कि आज हम सभी ग्रहों के बारे में जानने जा रहे हैं और सौरमंडल व ग्रह क्या है? इसके साथ ही सौरमंडल से संबंधित अन्य जानकारियों के बारे में भी बात करेंगे।

आपको आज का आर्टिकल कैसा लगा हमे कमेंट करके जरूर बताएं और अभी तक आपने आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर नहीं किया है तो इसे जरूर शेयर करें हम आप सभी के लिए ऐसे ही ज्ञानवर्धक लेख प्रकाशित करते हैं।

नमस्ते, मेरा नाम सुनील पासवान हैं और मैं फुल टाइम ब्लॉगिंग करता हूँ। मुझे अलग-अलग विषयों पर लेख लिखना पसंद है। हिंदी बंधन के माध्यम से आप सभी तक बेहतर जानकारी पहुंचाने को मैंने अपना जुनून बना लिया है! आशा करता हूँ आप अपना प्यार बनाये रखेंगे।

Leave a Comment